कुंडली के तीसरे भाव से क्या-क्या देखा जाता है ?

Spread the love

 

कुंडली के तीसरे भाव से क्या-क्या देखा जाता है ?

 

 

आज तीसरे हम  भाव की बात करेंगे  |

तीसरा भाव [तीसरा  घर, थर्ड हाउस ]

            काल पुरुष कुंडली में तीसरे भाव  में मिथुन राशि आती है ,जिसका स्वामी बुध है |  इस  तीसरे घर पर बुध ग्रह  और मिथुन राशि का प्रभाव होता है| 

तीसरे भाव  से देखे जाने वाले शरीर के हिस्से  | 

             तीसरे घर से जातक के श्वसन संस्था , हाथ, बाजू , कंधे, हाथों की उंगलियां, हाथों का ऊपरी हिस्सा ,मज्जा संस्था ,कान ,  सुनने  की क्षमता , तथा अभिसरण क्रियाएं और श्रवण  इंद्रियां,,यह सब चीजें तीसरे भाव से ही देखि जाती हैं |  

तीसरे घर से देखे जाने वाले   के कार्य |  

              इस भाव का  शवाशन  संस्था पर अधिकार होता है  अतः श्वसन क्रिया, हाथों से संबंध है, भुजाएं  और  भुजा  का बल  अर्थात पराक्रम, वीरता,  इस तीसरे   का सम्बन्ध  मज्जा  संस्था से है  अतः सजगता , चतुराई ,और  मिथुन राशि  के वायु तत्व के कारण कल्पना शक्ति ,अच्छा आकलन, बुध  के कारण बुद्धि का स्तर,  एवं तेज बुद्धि, तीसरा भाव  बाजू और उंगलियों से संबंधित है इसलिए लिखने की कला और लिखना, लेखन का विषय, अक्षरों के वनावट  और हस्ताक्षर करने का तरीका अदि कार्य तीसरे भाव से ही देखे जाते हैं |  

तीसरे भाव से मिलने वाले विरोधी फल  | 

             किसी भी भाव का पिछला [ 12वां ] भाव उस  भाव की हानि करता है|  इसलिए तृतीय भाव चतुर्थ स्थान से 12 वा स्थान है, इस कारण चतुर्भाव से प्राप्त होने वाले फलों से संबंधित, विरोधी फल  जैसे  ,शिक्षा में टकराव, शिक्षा में रुकावट , घर से दूर जाकर रहना, घर, मकान, जमीन पर से अपना अधिकार को खो  देना, घर को बदलना या  घर को बेचना, घर से दूर जाना और जातक को अपनी माता के सुख से वंचित रहना भी इसी घर से देखा जाएगा |

तीसरे भाव से मिलने वाली  और जानकारियां | 

            काल पुरुष कुंडली में तीसरे भाव में मिथुन राशि आती है जिसका स्वामी बुध ग्रह है साथ ही मिथुन राशि वायु तत्व  तक की राशि है, इसलिए इस भाव से लेखन, लिखने के साधन, कागज ,कलम, पेंसिल, छाप छपाई के जंतर, स्याही , फोटो कैमरा , छापा खाने ,पत्र , पोस्ट ऑफिस, तार, टेलीफोन एक्सचेंज , समाचार ,आकाशवाणी, दूरदर्शन, समाचार पत्र , एग्रीमेंट ,दस्तखत, इश्तिहार एजेंसियां ,इश्तिहार के बोर्ड, इश्तिहार देने वाले रिपोर्टर,  दलाल, दलाली  का काम, एजेंसी, फ्रेंचाइजी, किसी को देने वाले संदेश सिग्नल, दूर संचार, किताब की  लाइब्रेरी, किताबों को रखने वाली जगह, हर तरह के एग्रीमेंट, ठेकेदार ,किसी भी तरह के सर्टिफिकेट, वीजा, इंटरव्यू, कोर्ट में अपील, किसी कॉलेज में दाखिला, दो पहिया  वाले वाहन, नजदीक की यात्रा, यात्रा संस्था, मिथुन राशि का स्वामी बुध गणित का कारक है, इसलिए हिसाब किताब रखने वाले गणित,अकाउंटेंट ,  ज्योतिषीय, भाषा विशेषज्ञ ,ग्रंथों  की रचना करने वाले  लेखक ग्रंथ बेचने वाले ,श्रवण  जंतर ,किसी तरह की जानकारी एवं मीडिया, मीडिया रिपोर्टर ,टेलीविजन के न्यूज़ रूम ,और इस भाव सेछोटे भाई बहनऔर पड़ोसी ,जातक का साहस ,जातक की हॉबी ,जातक  के शौक , जातक की अट्रैक्शंस ,बगैर यह सभी  चीज कुंडली के तीसरे भाव से देखी जाती हैं | 

जब तक से संबद्ध लोगों को मिलने वाले फल | 

          किसी भी कुंडली का तीसरा भाव  उस जातक के छोटे भाई बहनों का लगन हुआ |  इससे छोटे भाई बहनों का स्वास्थ्य,जातक की  माता की  विदेश यात्रा ,माता का अस्पताल में दाखिल होना, माता का मेडिटेशन करना ,संतान के लाभ, संतान की सोशल एक्टिविटी, संतान के दोस्त ,मामा  की तरक्की, मामा  का कारोबार ,पिता या गुरु का कारोबार या उनकी मृत्यु के बारे में भी इस भाव से जाना जा सकता है |  इस भाव से बड़े भाई बहन और दोस्तों का प्यार ,उनकी नौकरी में बदलाव और उनके स्वास्थ्य के बारे में देखा जा सकता है | 

किसी कुंडली के तीसरे भाव से देश प्रदेश के बारे में क्या देखा जा सकता है ?

           किसी देश या  किसी राज्य की कुंडली से उसके तीसरे भाव से उस देश के या  उस राज्य के पड़ोसी देशों के बारे में और उस देश के साहस के बारे में, उस  देश की  यातायात  संस्थाओं के बारे में ,और उस  देश में फैलने वाली खबरों के बारे में कि वह खबरें सत्य  हैं या झठी  हैं, और पड़ोसी देश की  बुद्धि से जुड़ी तरक्की के बारे में और उसके कम्युनिकेशन के यंत्रों के बारे में इस  तीसरे घर से जाना जा सकता है | 

घर में स्थान | 

          तीसरे घर जो की  लेखन से संबंधित  है ,इससे घर में किताबों की अलमारी, लेटर बॉक्स, घर की खिड़कियां, झरोखों , पंखे , घर में बच्चों की किताबे  या पढ़ने के स्थान , स्टड्ढी  टेबल, या घर में  झूले देखे जा सकते हैं|

3 thoughts on “कुंडली के तीसरे भाव से क्या-क्या देखा जाता है ?”

Leave a Comment